Cyber Crime क्या है | Cyber Crime कितने प्रकार के होते है?

क्या आप जानते हो की आज की एडवांस दुनिया में आधुनिक तकनीकों के साथ cyber crime कितना बढ़ गया है? लगभग हर एक व्यक्ति आज के समय में कंप्यूटर, लैपटॉप और स्मार्टफोन आदि का इस्तेमाल करता है। और इसका कारण है की टेक्नोलॉजी के बिना आज जीवन असंभव सा बन गया है। पर जितने ही इस टेक्नोलॉजी के फायदे है उतने ही इसके नुक्सान है। और सबसे कारण Cyber Crime हैं। क्या आप जानते हो की cyber crime kya hai in hindi यदि नही जानते हो तो आज इसी के बारे में हम आज जानकारी देने जा रही रहे है।

आज के आधुनिक युग में कंप्यूटर और नई-नई तकनीकों का इस्तेमाल करना एक आम बात हो गई है जो हमारे लिए बहुत से कार्यों को आसान बना देती है। इंटरनेट और नई-नई तकनीक हमारी जिंदगी का हिस्सा बन चुके हैं जिससे यह हमारी जिंदगी को आरामदायक सुख प्रदान करती है। इंटरनेट के कितने लाभ हैं यह आप सभी जानते हैं और उनकी गिनती करना भी मुश्किल होगा । लेकिन क्या आप जानते हैं कि हमारी एक छोटी सी गलती हमें बर्बादी की राह पर ले जा सकती है।

आमतौर पर हम प्रतिदिन ऐसी खबरें सुनते हैं जो Cyber Crime से जुड़ी हुई होती है, लेकिन हम उन्हें अनदेखा सा कर देते हैं और अपनी जिंदगी में मगन हो जाते हैं। आज की एडवांस टेक्नोलॉजी की मदद से हम सारे काम घर बैठे जैसे ऑनलाइन खरीदारी, फोन के बिल, बिजली के बिल आदि का भुगतान, ऑनलाइन पढ़ाई, सोशल मीडिया नेटवर्क का उपयोग आदि कर सकते है।और जिस तरह से इंटरनेट का इस्तेमाल हमारी प्रतिदिन का हिस्सा बन गया है उसी तरह साइबरक्राइम भी बहुत तेजी से फैल रहा है। 

बहुत से लोग यह नहीं जानते की cyber crime kya hai in hindi और किस तरह से लोग इसके शिकार बन जाते हैं। अतः एक जागरूक इंटरनेट यूजर होने के नाते Cyber Crime के बारे में जानना बहुत जरूरी होना चाहिए। आज हम इस लेख के माध्यम से आपको Cyber Crime और इसके प्रकारों के बारे में बताने की कोशिश करेंगे। ताकि आप भविष्य में इंटरनेट का इस्तेमाल करते समय कौन कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए इसके बारे में ध्यान रखो। चलिए फिर जानते है की साइबर अपराध क्या है और इससे कैसे बचा जा सकता है।

Cyber Crime क्या है? cyber crime kya hai in hindi

कंप्यूटर और मोबाइल द्वारा इंटरनेट और टेक्नोलॉजी का दुरुपयोग करके किसी व्यक्ति के बैंक अकाउंट ,सोशल मीडिया अकाउंट या वेबसाइट को हैक करना, किसी व्यक्ति को मारने की धमकी देना, संपत्ति हथियाने की कोशिश करना, तस्करी करना, व्यक्तिगत जानकारी का इस्तेमाल करके ब्लैकमेल करना और पोर्नोग्राफी को बढ़ावा देने के साथ किसी के सोशल अकाउंट पर किसी को गाली देना ही साइबर क्राइम माना जाता है।

साइबर क्रिमिनल्स अक्सर आम लोगों को शिकार बनाते हैं जो इंटरनेट और टेक्नोलॉजी के बारे में ज्यादा नहीं जानते हैं। उदाहरण के लिए हम सभी अपना स्मार्टफोन का उपयोग बहुत से कार्यों के लिए करते हैं जिसमें इंटरनेट बैंकिंग, क्रेडिट कार्ड डिटेल्स, पैन कार्ड, आधार कार्ड और सोशल मीडिया अकाउंट पासवर्ड को अपने स्मार्ट फोन में सेव कर लेते हैं। 

यह सारा डाटा किसी प्रकार के वायरस या टेक्नोलॉजी की मदद से इंटरनेट पर बैठे unauthorized user के द्वारा हैक किया जा सकता है और इसका दुरुपयोग कर सकता है। Cyber Crime को अंजाम देने वाला कोई एक व्यक्ति या कोई व्यक्तियों का समूह हो सकता है जिनको साइबर क्रिमिनल कहते हैं। यदि आप फाइबर क्राइम को और अच्छे से समझना चाहते हो तो हमने एक उदाहरण से आपको साइबर अपराध क्या है इसके बारे में बताया है।

उदाहरण : मान लीजिए कि आप बैंक जाकर अपने बैंक अकाउंट में ₹100000 जमा करवाते हैं और घर आने के कुछ समय बाद ही आपको किसी अनजान शख्स का फोन आता है और कहता है कि मुबारक हो आपको लॉटरी लगी है। और आप उसकी बातें सुनकर खुश हो जाते हैं और उस पर विश्वास कर लेते हैं। लॉटरी का झांसा देकर वह आपको उसके लाभ बताएगा

साथ ही बातों के फंसा कर आपसे आपका एटीएम नंबर और सीसीवी नंबर पूछेगा ताकि आपके खाते मैं इनाम की रकम भेज सकें। आप भी बिना सोचे समझे अपने बैंक डिटेल्स उसे बता देते हैं और उसके बाद आपको स्मार्ट फोन पर एसएमएस आता है कि आपके अकाउंट से ₹100000 निकाल लिए गए हैं। बहुत से लोग इस तरह की बातों में आकर अपनी जीवन भर की कमाई को खो देते हैं।

ऐसा ही एक उदाहरण नामी कंपनी Yahoo के साथ हुआ। उन्होंने एक डाटा उल्लंघन का अनुभव किया जिसके परिणामस्वरूप उनकी 3 बिलियन यूजेस का डाटा चोरी हो गया। जिसमें बहुत से उपभोक्ताओं की निजी जानकारी और पासवर्ड थे जिनका दुरुपयोग करके अन्य ऑनलाइन सेवाओं में इस्तेमाल किया गया। इस डाटा को डार्क वेब से कुछ कीमत या मुफ्त में बेचा गया और आज भी यह उपलब्ध है।

अब आप समझ गए होंगे कि Cyber Crime को किस तरह से अंजाम दिया जाता है और किस तरह से यह लोग आपके जीवन भर की कमाई को कुछ रुपयों का लालच देकर उड़ा ले जा सकते हैं। इसलिए कभी भी इस तरह के अनजान लोगों के साथ अपना बैंक अकाउंट डिटेल और अन्य निजी जानकारी न शेयर करें। न ही अपनी व्यक्तिगत तसवीर और मैसेज किसी को भी यूं हीं न भेजें।

Cyber Crime कितने प्रकार के होते है ; Types of Cyber Crime in Hindi

साइबर अपराध के बारे तो आप अच्छे से जान चुके होंगे। इसके साइबर अपराध के सभी संभव प्रकार के बारे में आपको पता होना चाहिए ताकि वह किसी भी रुप में आप उसकी चपेट में न आ जाओ । आइए जानते हैं Cyber Crime कितने प्रकार के होते हैं और वो कौन–कौन से है?

1.Hacking 

आमतौर पर सभी इंटरनेट यूजर्स ने हैकिंग के बारे में सुना होगा। खास तौर पर जो प्रतिदिन कंप्यूटर और इंटरनेट का उपयोग करते है। आज सबसे ज्यादा होने वाला Cyber Crime हैकिंग ही है। हैकिंग के द्वारा हर रोज हजारों की तादाद में लोगों की निजी जानकारी का दुरुपयोग करके हो रहा है। जब कोई व्यक्ति किसी की निजी जानकारी को उस आधिकारिक यूजर की इच्छा के बिना उपयोग करता है तो इसे हैकिंग करते है।

हैकिंग की प्रक्रिया करने वाले व्यक्ति या संघ को hackers कहा जाता है। आज के समय में सबसे ज्यादा हैकिंग की मदद से वेबसाइट और सोशल मीडिया अकाउंट जैसे कि फेसबुक और व्हाट्सएप हैक हो रहे हैं। हैकर किसी के भी कंप्यूटर और स्मार्टफोन को अनऑथराइज्ड तरह से एक्सेस करके आपकी वेबसाइट का कॉन्फिडेंशियल डाटा चुरा कर उसका गलत इस्तेमाल कर सकते है। और इसके साथ किसी के बैंक अकाउंट को भी है किया जा सकता है।

2.Theft

यहां चोरी का अर्थ है किसी भी ऑनलाइन वेबसाइट से गैर कानूनी रूप से जब कोई इंटरनेट यूजर गाना, वीडियो, फोटो, मूवीस, वेब सीरीज आदि को डाउनलोड करके उसका उपयोग करने से है। इन वेबसाइट पर वो सभी चीजे डाउनलोडेबल चीजे मिल जाती है तो आधिकारिक रूप से सामान्य जनता है के लिए लॉन्च नही की हुई होती है। 

3.Cyber Stalking

जब कोई व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह इंटरनेट के जरिए आप की गतिविधियों की जानकारी इकट्ठा करता है, आपके ऊपर नजर रखता है, आपको परेशान करने की कोशिश करता है तथा आपको मानसिक रूप से से परेशान करता है तो उसे साइबरस्टॉकिंग कहा जाता है। इसमें किसी की गतिविधियों पर नजर रखना, किसी की पहचान चुरा लेना, धमकी देना यह झूठे इल्जाम लगाना , मेंटली हरासमेंट करना, और किसी निजी बात के लिए ब्लैकमेल करना साइबर स्टॉकिंग कहलाता है।

उदाहरण के लिए किसी लड़की की व्यक्तिगत तस्वीर या वीडियो किसी अनजान शख्स को गलती से चली जाती है या चोरी हो जाती है और अब वह इस व्यक्तिगत तस्वीरों और वीडियोस की धमकी देकर विक्टिम से हजारों लाखों रुपए या कुछ और मांगता है और इसे साइबर स्टॉकिंग कहते है। यह बहुत ही दंडनीय अपराध है आज के इस आधुनिक दुनिया में ऐसे मामले प्रतिदिन देखे जा सकते हैं।

4.Identify Theft

आमतौर पर इस अपराध के अंतर्गत साइबर क्रिमिनल किसी के व्यक्तिगत जानकारी जैसे की पासवर्ड आईडी, डेबिट/क्रेडिट कार्ड नंबर, सीवीवी नंबर, मोबाइल नंबर आदि का इस्तेमाल करते हैं गलत कार्यों के लिए और इल्जाम आपके ऊपर लगाते है। इनका उपयोग विभिन्न अवैध उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है जिसमें बैंक लोन, ऑनलाइन शॉपिंग, हेल्थ इंश्योरेंस और पर्सनल डाटा शामिल है।

5.Child Pornography

आजकल के बच्चे स्मार्टफोन और इंटरनेट के आदि हो गए हैं। दिन भर गेम खेलते है, यूट्यूब चलाते है, सोशल मीडिया का का इस्तेमाल करते हैं। और ऐसे ही बच्चे चाइल्ड पोर्नोग्राफी वाले साइबर अपराध का शिकार हो जाते है। जब बच्चों के समक्ष ऑनलाइन गैर कानूनी वेबसाइट के द्वारा अश्लील चीजे प्रस्तुत की जाती है और उन्हें लालच देकर अपने घिनौने कामों में हिस्सा बना लेते है तो इसे चाइल्ड पोर्नोग्राफी कहा जाता है।

इसके अंतर्गत ऑनलाइन चैट रूम का भी इस्तेमाल किया जाता हैं ताकि बच्चों को अश्लील चीजों की तरफ आकर्षित किया जा सकें। किसी अवयस्क को यौन क्रिया के लिए फुसलाना या बहकाना प्रतिबंधित है। उदाहरण के लिए, इंटरनेट पर पंद्रह वर्षीय लड़की के साथ चैट करना, फिर बैठक का सुझाव देना अवैध आचरण है। इंटरनेट चैट रूम के माध्यम से मिलने के बाद यौन संबंध बनाने के लिए एक नाबालिग के घर की यात्रा करना भी आपराधिक गतिविधि है जिस पर मुकदमा चलाया जाएगा।

6.Malicious Software

इसे झूठा सॉफ्टवेयर भी कहते हैं। यह से सॉफ्टवेयर होते है जिनमे साइबर क्रिमिनल्स और हैकर्स के द्वारा ऐसे वायरस तथा प्रोग्राम डाल दिए जाते है जो किसी भी कंप्यूटर और सर्वर के लिए हानिकारक होते है। और यदि इनको एक बार किसी भी डिवाइस में डाल दिया जाए तो उसे यह हैक कर सकता है या फिर सारे डाटा को डिलीट कर सकता है। इन सॉफ्टवेयर का उपयोग करके हैकर्स आपके व्यक्तिगत जानकारी को हैक कर सकते है और आपके कम्प्यूटर/फोन को एक्सेस कर सकते हैं।

यह तो थे साइबर अपराध से जुड़े कुछ मुख्य अपराध। इसके अलावा हमने कुछ अन्य Cyber Crime के बारे में भी बताया है जिनके बारे मे भी आपको पता होना चाहिए।

  • स्पमै ईमेल भी एक तरह का Cyber Crime है जिसमें क्रिमनल के द्वारा फ्रॉड ईमेल भेजे जाते है।
  • सोशल नेटवर्किंग साइट्स के द्वारा राजनीतिक, सामाजिक, धार्मिकर् आदि प्रकार के झठू और अफवाह फैलाना भी Cyber Crime है।
  • किसी भी सोशल साइट्स पर जाके अभद्र टिप्पणी करना, तंग करना, धमकी देना भी साइबर अपराध का अगं है।
  • किसी की व्यक्तिगत जानकारी को मिटाना या फिर उसमें बदलाव करना भी Cyber Crime है।
  • इसके अलावा कम्प्यटूर के कि सी भाग को तोड़ना फिर चाहे वो बाहरी हो या आतंरिक, साइबर अपराध ही कहलाता है।

Cyber Crime से खुद को कैसे बचाएं?

सिर्फ साइबर के बारे में ही जानना काफी नही हैं। आप किसे साइबर क्राइम से बच सकते हो और दूसरों को भी बचा सकते हो इसके बारे में आपको होना चाहिए।

1.मजबूत पासवर्ड का प्रयोग करें

अपने पासवर्ड को अलग-अलग साइटों और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर न दोहराएं, और अपने पासवर्ड को नियमित रूप से बदलें। उन्हें जटिल बनाओ। इसका मतलब है कि कम से कम 10 अक्षरों, संख्याओं और प्रतीकों के संयोजन का उपयोग करना। पासवर्ड मैनेजर एप्लिकेशन आपके पासवर्ड को लॉक रखने में आपकी मदद कर सकता है।

2.अपने सॉफ्टवेयर को अपडेट रखें

यह आपके ऑपरेटिंग सिस्टम और इंटरनेट सुरक्षा सॉफ़्टवेयर के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। साइबर अपराधी आपके सिस्टम तक पहुंच प्राप्त करने के लिए आपके सॉफ़्टवेयर में अक्सर अज्ञात कारनामों, या खामियों का उपयोग करते हैं। उन कारनामों और खामियों को दूर करने से यह संभावना कम हो सकती है कि आप साइबर अपराध का लक्ष्य बन जाएंगे।

3.अपनी सोशल मीडिया सेटिंग प्रबंधित करें

अपनी निजी और निजी जानकारी को लॉक रखें। सोशल इंजीनियरिंग साइबर अपराधी अक्सर आपकी व्यक्तिगत जानकारी केवल कुछ मिनटों में प्राप्त कर सकते हैं। इसलिए जितना कम आप सार्वजनिक जानकारी को साझा करेंगे उतना ही बेहतर होगा। उदाहरण के लिए, यदि आप अपने पालतू जानवर का नाम पोस्ट करते हैं या अपनी मां के पहले नाम का खुलासा करते हैं, तो आप दो सामान्य सुरक्षा प्रश्नों के उत्तर उजागर कर सकते हैं।

4.अपने घरेलू नेटवर्क को मजबूत करें

एक मजबूत एन्क्रिप्शन पासवर्ड के साथ-साथ वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क के साथ शुरुआत करना एक अच्छा विचार है। एक वीपीएन आपके डिवाइस को छोड़ने वाले सभी ट्रैफ़िक को तब तक एन्क्रिप्ट करेगा जब तक कि वह अपने गंतव्य पर नहीं पहुंच जाता। यदि साइबर अपराधी आपकी संचार लाइन को हैक करने का प्रबंधन करते हैं, तो वे एन्क्रिप्टेड डेटा के अलावा कुछ भी इंटरसेप्ट नहीं करेंगे। जब भी आप सार्वजनिक वाई-फाई नेटवर्क में हों, चाहे वह पुस्तकालय, कैफे, होटल या हवाई अड्डे में हो, वीपीएन का उपयोग करना एक अच्छा विचार है।

4.अपने बच्चों से इंटरनेट के बारे में बात करें

आप संचार चैनलों को बंद किए बिना अपने बच्चों को इंटरनेट के स्वीकार्य उपयोग के बारे में सिखा सकते हैं। सुनिश्चित करें कि वे जानते हो कि वे आपके पास आ सकते हैं यदि वे किसी भी प्रकार के ऑनलाइन उत्पीड़न, पीछा करने या धमकाने का अनुभव कर रहे हैं।

5.प्रमुख सुरक्षा उल्लंघनों पर अद्यतित रहें

यदि आप किसी व्यापारी के साथ व्यापार करते हैं या किसी सुरक्षा उल्लंघन से प्रभावित वेबसाइट पर आपका खाता बनाते है, तो पता करें कि हैकर्स ने कौन सी जानकारी एक्सेस की और तुरंत अपना पासवर्ड बदल दें।

6.पहचान की चोरी से बचने के उपाय

पहचान की चोरी तब होती है जब कोई व्यक्ति आपके व्यक्तिगत डेटा को गलत तरीके से प्राप्त करता है जिसमें धोखाधड़ी या धोखा शामिल होता है, आमतौर पर आर्थिक लाभ के लिए। कैसे? उदाहरण के लिए, आपको इंटरनेट पर व्यक्तिगत जानकारी देने के लिए धोखा दिया जा सकता है

या कोई चोर खाता जानकारी तक पहुँचने के लिए आपका मेल चुरा सकता है। इसलिए अपने व्यक्तिगत डेटा की सुरक्षा करना महत्वपूर्ण है। एक वीपीएन – वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क के लिए छोटा – आपके द्वारा ऑनलाइन भेजे और प्राप्त किए गए डेटा की सुरक्षा में भी मदद कर सकता है, खासकर सार्वजनिक वाई-फाई पर इंटरनेट एक्सेस करते समय।

7.बच्चों पर रखें नजर

जैसे आप अपने बच्चों से इंटरनेट के बारे में बात करना चाहते हैं, वैसे ही आप उन्हें पहचान की चोरी से बचाने में भी मदद करना चाहेंगे। पहचान चोर अक्सर बच्चों को निशाना बनाते हैं क्योंकि उनकी सामाजिक सुरक्षा संख्या और क्रेडिट इतिहास अक्सर एक साफ स्लेट का प्रतिनिधित्व करते हैं। आप अपने बच्चे की व्यक्तिगत जानकारी साझा करते समय सावधानी बरतकर पहचान की चोरी से बचाव में मदद कर सकते हैं। यह जानना भी स्मार्ट है कि क्या देखना है, यह सुझाव दे सकता है कि आपके बच्चे की पहचान से समझौता किया गया है।

FAQs

Q.1 Cyber Crime कितने प्रकार के होते है? 

Ans :– थेफ्ट, साइबर स्टॉकिग, चाइल्ड पोर्नो ग्राफी, हैकिग आदि Cyber Crime के मुख्य प्रकार है।

Q.2 Cyber Crime क्या है समझाइए ?

Ans :– किसी भी कंप्यूटर का अपराधिक समय पर मिलना और गलत उपयोग करके किसी की निजी जानकारी कंप्यूटर से निकाल लेना या उसका गलत इस्तेमाल करना Cyber Crime कहा जाता है।

Q.3 Cyber Crime कैसे बचा जा सकता है? 

Ans :– साइबर क्राइम से बचने के लिए आपको फेक फोन कॉल से दरू रहना है, लालच भरी स्कीम से दरू रहना है, अपनी निजी जानकारी को दसूरो के साथ शयेर नही करना है और लेख में बताए गए सभी चीजों को फॉलो करना है।

Q.4 Cyber Crime होने पर क्या करे?    

Ans साइबर क्राइम होने पर आप नजदीकी पुलिस स्टेशन में शिकायत कर सकते हैं या ऑनलाइन 10 साइबर हेल्पलाइन पर सहायता मांग सकते हैं  

सारांश 

cyber crime kya hai in hindi और इसके प्रकार कौन-कौन से हैं यह शायद अब आप अच्छे से जान चुके हैं। हमें उम्मीद है कि आज से आप इंटरनेट और टेक्नोलॉजी को उपयोग करते समय इन सब बातों का ध्यान रखेंगे ताकि आप कभी साइबर क्राइम के शिकार ना बने साथ ही अपने परिवार और दोस्तों को भी इसके बारे में बताएं। हम आशा करते कि आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। अगर इस लेख से संबंधित आपको कोई प्रश्न हो तो बेझिझक आप पूछ सकते हैं।

आपके काम की अन्य पोस्ट:

> proxy server kya hai in hindi

> computer expert kaise bane

> Top 5 Software to protect yourself

> cyber cafe kaise start kare

Sharing Is Caring:

मेरा नाम योगेश यादव है और मुझे इस ब्लॉग के माध्यम से अपने ज्ञान को इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के साथ बांटना पसंद है।इस ब्लॉग के जरिए मैं टेक्नोलोजी से संबंधित जानकारियां शेयर करता हूं।

Leave a Comment