ईमेल का आविष्कार किसने किया | email ka avishkar kisne kiya

आज की आधुनिक दुनिया में ईमेल हमारी जिंदगी में एक अहम भूमिका निभाती है। एक समय था जब एक स्थान से दूसरे स्थान तक संदेश पहुंचाने के लिए चिट्ठी से बहुत दिनों बाद संदेश पहुंचाया जाता था। लेकिन आधुनिक तकनीकों के साथ-साथ आज कुछ सेकंड के अंदर ही हम फोन मैसेज के जरिए एक दूसरे से बात कर सकते हैं। 

ईमेल की मदद से हम किसी भी प्रकार का कोई भी दस्तावेज या कोई भी संदेश किसी अन्य व्यक्ति को ईमेल के द्वारा भेज सकते हैं। 

आज इस लेख में ईमेल क्या है? ईमेल का आविष्कार किसने किया | email ka avishkar kisne kiya भारत में ईमेल की शुरुआत कब हुई? ईमेल आईडी कहां बना सकते हैं? ईमेल कैसे काम करता है? ई-मेल के क्या लाभ हैं? ई-मेल के नुकसान क्या हैं?

ईमेल क्या है? 

ईमेल जिसे इलेक्ट्रॉनिक मेल के रूप में भी जाना जाता है। यह कंप्यूटर या किसी अन्य डिवाइस से इंटरनेट के माध्यम से संदेश भेजने की एक विधि है। ईमेल पत्र भेजने का आधुनिक तरीका कहां जा सकता है?

जिस प्रकार पहले किसी भी संदेश को भेजने के लिए डाक का उपयोग किया जाता था, उसी प्रकार वर्तमान डिजिटल युग में आप किसी भी संदेश या दस्तावेज़ को इंटरनेट के माध्यम से ईमेल द्वारा आसानी से भेज सकते हैं।

ईमेल द्वारा संदेश या दस्तावेज़ भेजने के लिए, आपको एक ईमेल पता चाहिए जो उपयोगकर्ता नाम और डोमेन नाम से बना हो और आप आसानी से अपने स्मार्टफोन या कंप्यूटर के माध्यम से अपनी ईमेल आईडी बना सकें। 

आज के समय में ईमेल का इस्तेमाल कई जगहों पर किया जाता है चाहे वो ऑफिस हो या घर, स्कूल हो या कॉलेज, आज हमें हर छोटे-बड़े ऑनलाइन काम के लिए ईमेल की जरूरत होती है और यह आप अच्छी तरह से जानते होंगे।

ईमेल का आविष्कार किसने किया?

आपको यह जानकर बहुत गर्व होगा कि ईमेल का आविष्कार करने वाला भारतीय है और ईमेल के आविष्कारक का नाम डॉ. शिवा अय्यादुरई है, जो भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक हैं।

आज दुनिया का बिना ईमेल के चलना मुश्किल लगता है। ईमेल से हमें काम को आसान बनाने और करोड़ों कागजी लागत बचाने में जो मदद मिली है, वह अकल्पनीय है।

ईमेल इंटरनेट के माध्यम से कंप्यूटर या अन्य डिवाइस से पत्र भेजने का एक तरीका है। यह तरीका बहुत आसान है और इसे कंप्यूटर के साथ-साथ स्मार्टफोन से भी भेजा जा सकता है।

ईमेल के प्रवर्तक शिव अय्यादुरई का जन्म 1964 में मुंबई में रहने वाले एक तमिल परिवार में हुआ था। 7 साल की उम्र में शिव अपने माता-पिता के साथ अमेरिका में बस गए। 1978 में फेलोशिप के दौरान ही शिवा ने दुनिया का पहला इंटरऑफिस मेल सिस्टम डिजाइन किया था, जिसे “ई-मेल” का नाम मिला, उस समय शिवा अय्यादुरई सिर्फ 14 साल के थे।

अय्यादुरई द्वारा बनाए गए इस कार्यक्रम को आधिकारिक तौर पर ईमेल के खोजकर्ता के रूप में मान्यता दी गई थी। यानी ईमेल को सर्च करने का कॉपीराइट अय्यादुरई को दिया गया था।

ईमेल भेजने के लिए ईमेल पते की आवश्यकता होती है जो उपयोगकर्ता नाम और डोमेन नाम से बना होता है जिसे ईमेल आईडी कहा जाता है , उपयोगकर्ता नाम और डोमेन नाम पते को जोड़ने के लिए ‘@’ चिह्न का उपयोग किया जाता है। इस ‘@’ का आविष्कार रे टोमिलसन ने किया था।

रे टोमिलसन एक अमेरिकी प्रोग्रामर थे जिन्होंने एक ही नेटवर्क पर विभिन्न मशीनों के बीच सीधे इलेक्ट्रॉनिक संदेश भेजने का आविष्कार किया था। इससे पहले उपयोगकर्ता उसी कंप्यूटर का उपयोग करके दूसरों को संदेश लिख सकते थे। इसलिए Ray Tomilson को ईमेल का जनक भी माना जाता है।

भारत में ईमेल की शुरुआत कब हुई

हालांकि ईमेल की खोज 1978 में ही हुई थी, लेकिन भारत में पहली बार ईमेल का इस्तेमाल 15 अगस्त 1995 को किया गया था। और उसके बाद भारत में ईमेल का चलन शुरू हुआ। यानी 1990 के दशक में भारत में भी ईमेल की शुरुआत हुई थी।

ईमेल आईडी कहां बना सकता हूं?

आज के समय में इंटरनेट पर कई ईमेल सर्विस प्रोवाइडर उपलब्ध हैं, जहां से आप आसानी से ईमेल आईडी बना सकते हैं। कुछ बेहतरीन ईमेल सेवा प्रदाता निम्नलिखित हैं।

1 – जीमेल | Gmail

जीमेल, जिसका पूरा नाम गूगल मेल है, दुनिया भर में ईमेल आईडी बनाने का एक बहुत ही लोकप्रिय प्लेटफॉर्म है, जहां आप आसानी से अपने मोबाइल से भी ईमेल आईडी बना सकते हैं। जीमेल एक ईमेल भेजने वाला टूल है जो किसी को भी आसानी से इलेक्ट्रॉनिक मेल मुफ्त में भेजने में मदद करता है।

जीमेल की शुरुआत गूगल ने 1 अप्रैल 2004 को की थी और साथ ही आपको जानकारी के लिए बता दें कि गूगल के इस प्रोडक्ट जीमेल को गूगल के ही डेवलपर पॉल बुचेट ने बनाया है।

आज Google के पास कई उपयोगी उत्पाद हैं, जिनका उपयोग करने के लिए Gmail ID का होना आवश्यक है, इसलिए लगभग सभी के पास Gmail ID है। आप अपने निजी इस्तेमाल के साथ-साथ व्यापार में भी जीमेल आईडी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

2 – आउटलुक | Outlook

आउटलुक माइक्रोसॉफ्ट का एक उत्पाद है। आप आउटलुक के जरिए अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में ईमेल आईडी भी बड़ी आसानी से बना सकते हैं। आउटलुक का इस्तेमाल ज्यादातर बिजनेस में किया जाता है क्योंकि यह बिजनेस के लिए सबसे अच्छी ईमेल आईडी है।

3 – याहू मेल | Yahoomail

ईमेल आईडी बनाने के लिए Yahoo! मेल भी एक लोकप्रिय प्लेटफॉर्म है। याहू! मेल का इस्तेमाल ज्यादातर प्रोफेशनल बिजनेस में भी होता है लेकिन आज के समय में इसका इस्तेमाल कम ही होता है।

4 – रेडिफमेल | Rediffmail

Rediffmail की सेवाएं अन्य ईमेल सेवा प्रदाताओं के समान हैं, सिवाय इसके कि डोमेन नाम बदल दिया गया है। आप Rediffmail का उपयोग व्यवसाय के साथ-साथ व्यक्तिगत उपयोग के लिए भी कर सकते हैं।

ईमेल कैसे काम करता है?

ईमेल भेजने और प्राप्त करने के लिए मेल सर्वर सबसे महत्वपूर्ण हैं। एक मेल सर्वर ईमेल भेजने के लिए साधारण मेल ट्रांसफर प्रोटोकॉल का उपयोग करता है और ईमेल प्राप्त करने के लिए पोस्ट ऑफिस प्रोटोकॉल संस्करण 3 का उपयोग करता है।

आप पोस्ट ऑफिस जैसे मेल सर्वर के बारे में सोच सकते हैं। जैसे पुराने जमाने में लोग चिट्ठियों के जरिए संदेश भेजते थे, जिसमें उन्हें पहले डाक घर तक पत्र पहुंचाना होता था। डाक घर पत्र पर लिखे पते के अनुसार सभी पत्र सही व्यक्ति को भेजता था।

मेल सर्वर डाकघरों के समान कार्य करते हैं। एक ओर जहां डाकघर के माध्यम से पत्र भेजने और प्राप्त करने की प्रक्रिया में काफी समय लगता था, वहीं दूसरी ओर उन्नत तकनीक के कारण मेल सर्वर क्लाइंट को वास्तविक समय में ईमेल पहुंचाते हैं।

ईमेल के क्या लाभ हैं?

  • सबसे पहले, फायदे के बारे में बात करते हुए, यह डाक, कूरियर और टेलीफोन जैसे संचार के अन्य साधनों की तुलना में काफी सस्ती सेवा है।
  • यह एक तेज़ सेवा भी है क्योंकि आप ईमेल को तुरंत लिख सकते हैं और उसी समय भेज सकते हैं यानी इसमें पोस्ट और कूरियर की तरह समय नहीं लगता है।
  • ईमेल भेजने या प्राप्त करने में कागज नष्ट नहीं होता है, अर्थात इसे एक लाभ के रूप में भी देखा जा सकता है।
  • ईमेल भेजने और प्राप्त करने की प्रक्रिया भी काफी सरल है।
  • इसके अलावा आप एक ही ईमेल को एक ही समय में एक से अधिक लोगों को भी भेज सकते हैं।
  • आप अपने ईमेल को अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर भी स्टोर कर सकते हैं और जरूरत पड़ने पर इसे पढ़ सकते हैं।

ईमेल आईडी के नुकसान

  • ईमेल आईडी प्राप्त करने और भेजने के लिए इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता होती है।
  • हालांकि ईमेल भेजना आसान है, लेकिन इसके लिए थोड़ा तकनीकी ज्ञान की भी आवश्यकता होती है।
  • अगर आप इंटरनेट पर किसी अविश्वसनीय वेबसाइट को ईमेल आईडी देते हैं तो हैकर्स लुभावने ईमेल भेजकर आपके कंप्यूटर पर वायरस भेज सकते हैं।
  • ईमेल में आप एक निश्चित आकार की फ़ाइल भेज सकते हैं, आप एक ईमेल द्वारा निर्धारित डेटा सीमा से अधिक डेटा नहीं भेज सकते।
  • आपको कई अवांछित, स्पैम या अवांछित ईमेल प्राप्त हो सकते हैं।

सारांश

हेलो दोस्तो , आज हमने इस लेख के माध्यम से आप सभी को ईमेल क्या है? ईमेल का आविष्कार किसने किया? भारत में ईमेल की शुरुआत कब हुई? ईमेल आईडी कहां बना सकते हैं? ईमेल कैसे काम करता है? ई-मेल के क्या लाभ हैं? ई-मेल के नुकसान क्या हैं? के बारे में जानकारी देने की कोशिश की है। हम आशा करते हैं कि यह लेख आपको पसंद आया होगा। यदि इस लेख से संबंधित कोई भी प्रश्न हो तो आप कमेंट करके हमसे पूछ सकते हो।

ध्यान दें :- ऐसे ही एजुकेशनल और बिज़नेस  की जानकारी हम सबसे पहले अपने इस वेबसाइट pankajdograblog.com के माध्यम से देते हैं तो आप हमारे वेबसाइट को फॉलो करना ना भूलें । और साथ हमारे telegram channel को भी फॉलो करे
Telegram channel link = Follow me

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद…

आपके काम की अन्य पोस्ट:

Amazon Se Shopping Kaise Kare

printer ka avishkar kisne kiya

CPU ka avishkar kisne kiya

telegraph ka avishkar kisne kiya

memory card ka avishkar kisne kiya

Sharing Is Caring:

मेरा नाम पंकज कुमार है और मुझे इस ब्लॉग के माध्यम से अपने ज्ञान को इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के साथ बांटना पसंद है। इस ब्लॉग के जरिए मैं टेक्नोलोजी से संबंधित जानकारियां शेयर करता हूं।

Leave a Comment